Indore unlegal production of elopathy medicine on license of aayurvedic medicine

इंदौर में आयुर्वेद विभाग, क्राइम ब्रांच टीम और खाद्य व औषधि प्रशासन ने एक टीम बनाकर मंगलवार को निपानिया औद्योगिक क्षेत्र स्थित दवा फैक्टरी पर छापा मारा. यहां पर अवैध तरीके से आयुर्वेदिक दवा निर्माण का लाइसेंस लेकर डुप्लीकेट एलोपैथिक दवाओं बनायीं जा रही थी. इन नकली दवाइयों पर किसी भी तरह के रैपर व लेबल नहीं थे. टीम ने बड़ी मात्रा में दवाओं के सेंपल लिए हैं. टीम को यह सुचना मिली थी की यहाँ बड़ी कंपनियों के नाम से डुप्लीकेट दवा बनाई जा रही थी.

नशे की दवा बनाने की सूचना मिलने के बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने सोमवार रात ही निपानिया औद्योगिक क्षेत्र के तिरुपति पैलेस में “अमीना लाइफ साइंसेस” नाम की कंपनी पर जांच के लिए पहुंची. दवाइयों के सेम्पल लेने के बाद क्राइम ब्रांच ने रात को ही फैक्ट्री सील कर दी.

Indore unlegal production of elopathy medicine on license of aayurvedic medicine

एएसपी अमरेंद्रसिंह के अनुसार, फैक्ट्री में से एलोपैथिक दवाएं पेरासिटामॉल, एमलीडीवीन, कैल्शियम आदि दवाएं मिली. कुल 70 क्विंटल का रॉ मटेरियल जब्त कर लिया गया हैं. संजीव अग्रवाल की इस फैक्ट्री में मौके पर कमल परमार मिला, जो खुद को मैनेजर बता रहा था. छानबीन के दौरान पता चला कि फैक्ट्री संचालक ने कमल परमार व जितेंद्र चौहान के नाम से आयुर्वेदिक दवा बनाने के लिए लाइसेंस जारी किया गया था परन्तु इसकी आड़ में एलोपैथिक दवा बनाई जा रही थी.

loading...