फेसबुक डेटा लीक घोटाले में चर्चा में आई ब्रिटेन की कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने भारत में फेसबुक उपयोक्ताओं से जुड़ी जानकारी के इस्तेमाल से इनकार कर दिया है. जबकि फेसबुक ने हाल ही में स्वीकार किया था कि इस घोटाले से भारत के 5.62 लाख लोग संभावित प्रभावितों में हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इस घपले में कंथित संलिप्तता वाली इन दोनों कंपनियों के विरोधाभासी जवाबों को ध्यन में रखते हुए सरकार अब उनसे अतिरिक्त स्पष्टीकरण मांगने पर विचार कर रही है.

सरकार ने कैंब्रिज एनालिटिका से कहा था कि वह डेटा लीक के इस प्रकरण में अपना जवाब सात अप्रैल तक दाखिल करे. जवाब के लिए और समय मांगने वाली कैंब्रिज एनालिटिका ने अपना जवाब हाल ही में भेज दिया.

आधिकारिक सूत्रों ने कहा, ‘कैंब्रिज एनालिटिका ने फेसबुक से भारतीयों से जुड़े किसी भी डेटा के इस्तेमाल से इनकार किया है. इस कंपनी तथा फेसबुक द्वारा दाखिल किए गए जवाबों में विरोधाभास है. सरकार इन दोनों से और स्पष्टीकरण मांगेगी.’

loading...
 कैंब्रिज एनालिटिका पर आरोप है कि उसने फेसबुक के करोड़ों उपयोक्ताओं से जुड़ी जानकारी का विश्लेषण किया और इसका इस्तेमाल कई देशों में उनके राजनीतिक रूझान को प्रभावित करने में किया. इस घपले के सामने आने से फेसबुक की खासी किरकिरी हुई है जो कि दुनिया की प्रमुख सोशल मीडिया वेबसाइट है. भारत में उसके 20 करोड़ उपयोक्ता हैं.

फेसबुक ने हाल ही में स्वीकार किया कि 8.7 करोड़ उपयोक्ताओं से जुड़ी जानकारी अनुचित ढंग से कैंब्रिज एनालिटिका के साथ साझा की गयी.