इंडियन प्रीमियर लीग के संस्थापक ललित मोदी का मानना है कि एक समय ऐसा आएगा कि खिलाड़ियों को प्रति मैच दस लाख डॉलर तक मिलेंगे, लेकिन देशों के बीच पारंपरिक क्रिकेट खत्म हो जाएगा.

मोदी ने ब्रिटेन के डेली टेलीग्राफ में प्रकाशित इंटरव्यू में कहा, ‘आईपीएल लंबे समय तक चलेगा.’ मोदी ने कहा, ‘यह दुनिया की सबसे प्रभावी खेल लीग होगी. आईपीएल टीमों के पीछे धनकुबेर व्यवसायी हैं और भारत में क्रिकेट को लेकर जुनून इसे प्रायोजकों और प्रसारकों के लिए लुभावनी लीग बनाता है.’

फिलहाल इंग्लैंड के बेन स्टोक्स को राजस्थान रॉयल्स एक सत्र के लिए 19.5 लाख डॉलर दे रहा है. मोदी का मानना है कि यदि एक करोड़ 20 लाख डॉलर की कैप हटा दी जाए तो आईपीएल के शीर्ष खिलाड़ियों को इंग्लिश प्रीमियर लीग फुटबॉलरों या एनएफएल स्टॉर्स की तरह पैसा मिल सकता है.

मोदी ने कहा, ‘खिलाड़ियों को प्रति मैच दस से बीस लाख डॉलर भी मिलने लगेंगे. ऐसा जरूर होगा. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के कोई मायने नहीं रह जाएंगे.’

आपको बता दें कि ललित मोदी फिलहाल लंदन में हैं और बीसीसीआई के द्वारा उनके ऊपर आजीवन प्रतिबंध लगाया गया है. गौरतलब है कि आईपीएल के पूर्व चीफ ललित मोदी मनी लॉन्ड्रिंग केस में वान्टेड हैं.

ईडी (इन्फोर्समेंट डायरेक्ट्रेट) ने ललित मोदी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग केस दर्ज किया था. मोदी पर 2009 में T-20 क्रिकेट टूर्नामेंट के ओवरसीज टेलीकास्ट राइट्स देने में धोखाधड़ी करने का आरोप है.

loading...