20 साल पुराने काला हिरण शिकार मामले में सोमवार को जोधपुर की सेशंस कोर्ट ने सलमान की अपील पर पहली सुनवाई की. लेकिन सेशंस कोर्ट में सुनवाई के पहले ही दिन सलमान खान उस बात से पलटते नजर आए, जिसके आधार पर उन्हें इसी कोर्ट ने जमानत दे दी थी.

दरअसल सलमान खान के वकील महेश बोरा ने सोमवार को सेशंस कोर्ट के समक्ष एक पेटीशन दायर कर सलमान को अगली सुनवाइयों में व्यक्तिगत तौर पर पेश होने से छूट देने की गुहार लगाई है.

सलमान खान को बीते 5 अप्रैल को जोधपुर की ही CJM कोर्ट ने काले हिरणों के शिकार का दोषी करार देते हुए 5 साल की सजा सुनाई थी. सलमान ने इसी सजा को सेशंस कोर्ट में चुनौती दी है. सीजेएम कोर्ट द्वारा सजा सुनाए जाने के बाद दो दिन तक सलमान को जोधपुर सेंट्रल जेल में गुजारनी पड़ी थी.

दो दिन तक चले नाटकीय घटनाक्रम के बाद 7 अप्रैल को सेशंस कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी थी. उस समय सलमान की जमानत के लिए उनके वकील ने इस बात को कोर्ट के सामने काफी पुरजोर तरीके से उठाया था कि 20 साल के केस के दौरान सलमान कभी भी सुनवाई के दौरान गैर-हाजिर नहीं रहे.

आज भी सलमान इसलिए खुद जोधपुर कोर्ट पहुंचे क्योंकि सेशंस कोर्ट ने सलमान को सशर्त जमानत देते हुए आज की सुनवाई के लिए व्यक्तिगत तौर पर सलमान को उपस्थित रहने के लिए कहा था.

लेकिन सेशंस कोर्ट की सुनवाई के पहले ही दिन जिस तरह सलमान ने अपने वकील के जरिए व्यक्तिगत पेशी से राहत मांगी है, उससे तो यही लगता है कि सलमान जमानत मिलते ही पलट गए.

loading...