नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्रियों को ताउम्र सरकारी बंगला दिए जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जो फैसला सुनाया है, उसके बाद से कई पूर्व मुख्यमंत्रियों को अपना सरकारी आशियाना छोड़ना पड़ सकता है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सरकारी बंगला को खाली करने वालों की फेहरिस्त में सपा, बसपा और बीजेपी के कई पूर्व मुख्यमंत्री शामिल हैं. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार के कानून को रद्द करते हुए कहा कि यह संविधान के खिलाफ है. यह कानून समानता के मौलिक अधिकार के खिलाफ है और मनमाना है.

1. अखिलेश यादव: अखिलेश यादव वर्तमान में समाजवादी पार्टी के मुखिया हैं. सीएम योगी आदित्यनाथ से पहले अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे. यही वजह है कि इनका नाम भी उन लोगों में शामिल है, जिनके नाम पर सरकारी बगंला आवंटित है. अखिलेश यादव साल 2012  से लेकर 2017 तक यूपी के मुख्यमंत्री रह चुके हैं.

2. मुलायम सिंह यादव: पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव के पिता मुलायम सिंह सपा के संस्थापक हैं और यूपी के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं. मुलायम सिंह के नाम भी सरकारी बंगला आवंटित है. साल 1992 में उन्होंने समाजवादी पार्टी बनाई. वह एक बार नहीं, बल्कि तीन बार राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. मुलायम सिंह यादव क्रमशः 5 दिसम्बर 1989 से 24 जनवरी 1991 तक, 5 दिसम्बर 1993 से 3 जून 1996 तक और 29 अगस्त 2003 से 11 मई 2007 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री रहे.

3. राजनाथ सिंह: राजनाथ सिंह बीजेपी के कद्दावर नेता हैं और अभी मोदी सरकार में गृह मंत्री हैं. राजनाथ सिंह के नाम पर भी यूपी में सरकारी बंगला आवंटित है, क्योंकि 28 अक्टूबर 2000 से 8 मार्च 2002 तक वह भी यूपी के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. राजनाथ सिंह 19वें मुख्यमंत्री के रूप में अपनी सेवा दे चुके हैं.

4. कल्याण सिंह: वर्तमान में कल्याण सिंह राजस्थान के गवर्नर हैं. कल्याण सिंह दो बार यूपी के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. एक बार वह 24 जून 1991 से 6 दिसम्बर 1992 तक मुख्यमंत्री रह चुके हैं और एक बार वह 21 सितम्बर 1997-12 नवम्बर 1999 तक.

5. मायावती: मायावती वर्तमान में बहुजन समाजवादी पार्टी की मुखिया हैं और यूपी की सत्ता हासिल करने के लिए काफी सक्रिय नजर आ रही हैं. मायावती कुल 4 बार यूपी की सीएम रह चुकी हैं. उनका आखिरी कार्यकाल 13 मई 2007 से  15 मार्च 2012 रहा है. इनके नाम पर भी पूर्व मुख्यमंत्री होने के नाते सरकारी बंगला आवंटित है.

6. नारायणदत्त तिवारी: नारायणदत्त तिवारी भारतीय राजनीति में एक काफी जाना-पहचाना नाम है. नारायणदत्त तिवारी उत्तर प्रदेश के साथ-साथ उत्तराखंड के भी मुख्यमंत्री रह चुके हैं. ये तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. इन्हें भी अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सरकारी बंगला खाली करना होगा.

loading...