पूर्व राष्ट्रपति और कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रणब मुखर्जी गुरुवार को नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) के कार्यक्रम में शामिल हुए. उनके साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत भी रहे. नागपुर में आरएसएस मुख्यालय में हुए इस कार्यक्रम में प्रणब मुखर्जी ने संघ के स्वयंसेवकों को राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाया. समारोह में शामिल होने के कुछ देर बाद प्रणब की एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है. फोटो में प्रणब मुखर्जी को संघ के अन्य स्वयंसेवकों की तरह अभिवादन करते हुए दिखाया गया है. हालांकि, प्रणब मुखर्जी ने ऐसा नहीं किया था.

इस फर्जी फोटो को लेकर आरएसएस के सह सर कार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य ने बयान दिया है. उन्होंने कहा कि कुछ विभाजनकारी राजनीतिक तत्वों ने नागपुर में गुरुवार को आयोजित आरएसएस के एक कार्यक्रम से जुड़ी एक तस्वीर पोस्ट की है, जिसमें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को संघ की प्रार्थना के दौरान प्रार्थना स्थिति में दिखाया गया है.

मनमोहन ने कहा कि इन्हीं ताकतों ने प्रणब को इस समारोह में भाग लेने से रोकने के लिए विरोध भी किया था. और अब ये हताश ताकतें संघ को बदनाम करने के लिए इस प्रकार की घटिया चालें चल रही हैं. हम जानबूझकर संघ को बदनाम करने के लिए इन विभाजनकारी ताकतों द्धारा चलाई जा रही ऐसी चालों की निंदा करते हैं.

loading...